Lyrics

Kali Palak Teri Lyrics From Do Chor [English Translation]

Lyrics Gem

Kali Palak Teri Lyrics: This song is sung by Kishore Kumar, and Lata Mangeshkar from the Bollywood movie ‘Do Chor’. The song lyrics were penned by Majrooh Sultanpuri, and the song music is composed by Rahul Dev Burman. It was released in 1972 on behalf of Saregama.The Music Video Features Tanuja & DharmendraArtist: Lata Mangeshkar & Kishore KumarLyrics: Majrooh SultanpuriComposed: Rahul Dev BurmanMovie/Album: Do ChorLength: 4:29Released: 1972Label: Saregama

Kali Palak Teri Lyrics

काली पालक तेरी गोरी
खुलने लगी है थोड़ी थोड़ी
एक चोरनी एक चोर के
घर करने चली है चोरी
हो चोरि काली पालक तेरी गोरी
खुलने लगी है थोड़ी थोड़ी
एक चोरनी एक चोर के
घर करने चली है चोरी
हो चोरि काली पालक पियाआएगी बांध के पायल तू
होंठ दबाये बदन को चुराये
नाजुक कमर से लगाये
ऐडा की कटरी जालिमन
फेरेगी धीरे धीरे तू
मेरे गले पर यह बहो के कंजर
जायेगी दिल मेरा लेकर
समझ के अनादी बलमा
रोज रात को यु ही बढ़ेगी
लातो की डोरी हो डोरी
काली पालक तेरी गोरी खुलने
लगी है थोड़ी थोड़ी
एक चोरनी एक चोर के
घर करने चली है चोरी
हो चोरि काली पालक तेरीना तोह मै डर से बंधू
ना जल बिछउ ना तिर चलौ
नाजुक कमर से लागू
छुरी ना कटारी सजाना
ओ सजना मई तोह
तेरा दिल लुंगी तुझसे
छुपा के नजर को बचा के
अरे यु ही जरा मुस्करा के
कहूँगी अनादि सजाना हो सजाना
रोज रात को तेरे घर होगी
तेरी चोरी हो चोरी
काली पालक तेरी गोरी खुलने
लगी है थोड़ी थोड़ी
एक चोरनी एक चोर के
घर करने चली है चोरी
हो चोरि काली पालक तेरीअच्छी हुयी मेरी
चोरी एक दिल खोया एक दिल पाया
ऐसे कोई पास आया की ा
गया लुटाने का मजा
हंस के लिपट गए
दोनों बस गए दोनों
हुवा जब वडा प्यार का
रोज रात को मिलेंगे चंदा
और चकोरि ो चकोरी
काली पालक तेरी गोरी खुलने
लगी है थोड़ी थोड़ी
एक चोरनी एक चोर के
घर करने चली है चोरी

Kali Palak Teri Lyrics English Translation

काली पालक तेरी गोरी
black spinach teri gori
खुलने लगी है थोड़ी थोड़ी
starting to open up a little bit
एक चोरनी एक चोर के
a thief of a thief
घर करने चली है चोरी
has gone home to steal
हो चोरि काली पालक तेरी गोरी
ho chori kaali palak teri gori
खुलने लगी है थोड़ी थोड़ी
starting to open up a little bit
एक चोरनी एक चोर के
a thief of a thief
घर करने चली है चोरी
has gone home to steal
हो चोरि काली पालक पिया
ho chori kali palak piya
आएगी बांध के पायल तू
You will come to bind anklets
होंठ दबाये बदन को चुराये
steal the body by pressing lips
नाजुक कमर से लगाये
hug the delicate
ऐडा की कटरी जालिमन
Aida’s Katari Jaliman
फेरेगी धीरे धीरे तू
you will turn slowly
मेरे गले पर यह बहो के कंजर
let it flow down my throat
जायेगी दिल मेरा लेकर
Will take my heart
समझ के अनादी बलमा
eternal fountain of understanding
रोज रात को यु ही बढ़ेगी
every night it will grow like this
लातो की डोरी हो डोरी
lato ki dori ho dori
काली पालक तेरी गोरी खुलने
Kali Palak Teri Gori Khulne
लगी है थोड़ी थोड़ी
a little bit
एक चोरनी एक चोर के
a thief of a thief
घर करने चली है चोरी
has gone home to steal
हो चोरि काली पालक तेरी
ho chori kali spinach teri
ना तोह मै डर से बंधू
na toh main dan se bandhu
ना जल बिछउ ना तिर चलौ
don’t spread water, don’t walk
नाजुक कमर से लागू
delicate waist applied
छुरी ना कटारी सजाना
knife or knife
ओ सजना मई तोह
O Sajna May Toh
तेरा दिल लुंगी तुझसे
Tera Dil Lungi Tujhse
छुपा के नजर को बचा के
hiding from sight
अरे यु ही जरा मुस्करा के
Hey you just smile
कहूँगी अनादि सजाना हो सजाना
I would say to decorate eternally
रोज रात को तेरे घर होगी
Will be at your house every night
तेरी चोरी हो चोरी
your theft is theft
काली पालक तेरी गोरी खुलने
Kali Palak Teri Gori Khulne
लगी है थोड़ी थोड़ी
a little bit
एक चोरनी एक चोर के
a thief of a thief
घर करने चली है चोरी
has gone home to steal
हो चोरि काली पालक तेरी
ho chori kali spinach teri
अच्छी हुयी मेरी
well done my
चोरी एक दिल खोया एक दिल पाया
stole a heart lost a heart found
ऐसे कोई पास आया की ा
someone came close
गया लुटाने का मजा
the fun of spoiling is gone
हंस के लिपट गए
goose hugs
दोनों बस गए दोनों
both settled
हुवा जब वडा प्यार का
hua jab vada pyaar ka
रोज रात को मिलेंगे चंदा
Will get donations every night
और चकोरि ो चकोरी
and chicory
काली पालक तेरी गोरी खुलने
Kali Palak Teri Gori Khulne
लगी है थोड़ी थोड़ी
it’s a little bit
एक चोरनी एक चोर के
a thief of a thief
घर करने चली है चोरी
has gone home to steal

Darshan Shah
the authorDarshan Shah